भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. देवेंद्र भसीन बोले आजादी का अमृत महोत्सव स्वतंत्रता का महोत्सव

Spread the love

देहरादून। आजादी के अमृत महोत्सव का आयोजन भारतीय जनता पार्टी की ओर से पूरे देश में किया जा रहा है। इसी कड़ी में बुधवार को भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष डॉ. देवेंद्र भसीन ने भाजपा प्रदेश मुख्यालय में पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि भारत एक लंबे समय तक अंग्रेजों का गुलाम रहा और उनके दिए गए आदेश और निर्देशों पर ही काम करता रहा, लेकिन सभी देशवासी के मन में स्वतंत्रता प्राप्त करने की इच्छा थी और यही इच्छा ही एक दिन आत्मविश्वास और जुनून में बदल गई।

डॉ देवेंद्र भसीन ने कहा कि भाजपा अपने स्थापना दिवस से लेकर आज अपने सामाजिक न्याय पखवाड़े के अंतर्गत पूरे देश भर में आजादी का अमृत महोत्सव मना रही है। उन्होंने बताया कि आज सामाजिक न्याय पखवाड़े का अंतिम दिन है और आज का दिन इसलिए विशेष महत्वपूर्ण है उत्तराखंड में पूरे प्रदेश भर में इस कार्यक्रम को बूथ स्तर से लेकर प्रदेश स्तर तक मनाया जा रहा है। कार्यक्रम अपने आप में इस रूप में महत्वपूर्ण है की आजादी के अमृत महोत्सव जिसके बारे में माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने अपना एक विजन दिया था उस विजन को जनता तक सीधा पहुंचा रहे हैं इसमें जनता की सीधी सीधी सहभागिता स्थापित की जा रही है। डॉ. भसीन ने बताया कि भाजपा की स्थापना दिवस को 6 अप्रैल को देश भर में ही नहीं अपितु पूरे विश्व में मनाया गया और 6 अप्रैल से आज तक अलग-अलग कार्यक्रम समाज के बीच में जाकर लगातार किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया देश को आजाद हुए 75 वर्ष हो गए हैं और यह 75 वर्ष का मनाने अवसर का है वह किसी भी स्वतंत्र देश के लिए महत्वपूर्ण होता है। इस को महत्व हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी  ने समझा और उनकी पहल से देश के अंदर आजादी का अमृत महोत्सव की शुरुआत की गई। उन्होंने बताया कि अगर हम देखें आजादी के 75 सालों में देश ने कहां से शुरुआत की थी और देश आज कहां खड़ा है इसका मनन लगातार चल रहा है।

डॉ. भसीन ने बताया जैसा कि गृहमंत्री अमित शाह ने संसद ने बताया इतिहास हमको सिखाता है । 75 साल में हमने क्या कुछ पाया और क्या पा सकते थे इसको समझना यह अपने अपने आप में एक महत्वपूर्ण विषय है। उन्होंने प्रधानमंत्री का जिक्र करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहते हैं कि हमें सपने देखने चाहिए लेकिन अब समय आ गया है हम खुली आंखों से सपना देखें और उसको साकार करें 75 वर्ष में क्या हुआ इसका चिंतन, इसकी समीक्षा होनी चाहिए। डॉ. भसीन न बताया कि हम जब 100 वर्ष के हो जाएंगे आजादी की दृष्टि से हम जब शताब्दी मना रहे होंगे तब हमें कौन से लक्ष्य प्राप्त करने हैं इसका चिंतन भी जब तक हम नहीं करेंगे तब तक हमारे वह लक्ष्य तय नहीं होंगे और हम उन लक्ष्यों को प्राप्त नहीं कर सकेंगे।

उन्होंने कहा कि आज आजादी अमृत महोत्सव मना रहे हैं वह केवल 75 साल के कार्य की समीक्षा नहीं वह केवल इस रूप में महत्वपूर्ण नहीं आज देश कितना आगे बढ़ा हम बड़े आगे लेकिन यह भी महत्वपूर्ण विषय है हम आगे जाना चाहते हैं। उन्होंने बताया कि यह संपूर्ण विषय को प्रधानमंत्री मोदी ने पूरे देश के सामने रखा देश में इसको लेकर सभी वर्गों में चिंतन हो रहा है मनन हो रहा है और आगे के लिए क्या योजना होनी चाहिए वह योजना भी बन रही है।
उन्होंने उत्तराखंड का जिक्र करते हुए कहा कि उत्तराखंड की दृष्टि से भी बहुत महत्वपूर्ण है 75 सालों में हमारे लिए जो बड़ी उपलब्धि रही आजादी के पहले और बाद में भी हमारी मांग रही कि उत्तराखंड एक अलग राज्य बने इन 75 सालों में उत्तराखंड के लिए एक बड़ी उपलब्धि रही है कि हमारा एक अलग से अलग राज्य बना उत्तराखंड जिसको बने हुए 22 वर्ष हो गए हैं और प्रधानमंत्री ने स्वयं 10 वर्ष का एजेंडा उत्तराखंड के सामने रखा है जो अगला यह दशक चल रहा है यह उत्तराखंड का दशक होगा।  उन्होंने कहा कि 22 वर्ष का चिंतन तो है ही हमारे सामने हमने क्या पाया है हम कितने आगे बढ़े हैं अगले 10 वर्ष तक हमें कहां तक पहुंचना है यह भी अपने आप में आज एक चिंतन का दिन है। उन्होंने मुख्यमंत्री का जिक्र करते हुए बताया कि पुष्कर सिंह धामी ने कहा सन 2025 में उत्तराखंड देश का अग्रणी राज्य होगा यह सब कार्यक्रम एक नए भारत की ओर और और एक ने उत्तराखंड की ओर ले जाने के लिए आधार प्रदान करते हैं।

आजादी के अमृत महोत्सव अभियान के बारे में बताते हुए डॉ. देवेंद्र भसीन ने कहा कि इस अभियान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 12 मार्च 2021 को अहमदाबाद में साबरमती आश्रम जहां से आजादी के समय महात्मा गांधी ने दांडी मार्च किया था वहां से शुरुआत की थी। आजादी का अमृत महोत्सव के लिए एक राष्ट्रीय समिति बनी जिसकी पूरी जिम्मेदारी गृह मंत्री अमित शाह को दी गई जिसकी उन्होंने एक रूपरेखा बनाई है। डॉक्टर देवेंद्र भसीन ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव के पांच प्रमुख स्तंभ है जिसमें पहला जो स्वतंत्रता संग्राम हुआ उसके बारे में चिंता ना करें, स्वतंत्र सेनानियों के योगदान के बारे में चिंतन करें विचार करें, इसमें ‘विचार एट द रेट 75’ भारत को आकार देने वाले विचारों और आदर्शों का जश्न मनाना यह या अपने आप में एक बहुत महत्वपूर्ण पहल है, विशिष्ट लक्ष्यों का समाधान, लक्ष्यों के प्रति सुदृढ़ करना।
उत्तराखंड के परिप्रेक्ष्य में बात करते हुए उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में नई दिशा पकड़ी है उन्होंने 2022 के चुनाव के दृष्टि पत्र का जिक्र करते हुए कहा उन्होंने कहा कि उत्तराखंड के देवत्व की रक्षा सुनिश्चित करना भी उसमें अंकित है। देवत्व एक नया एजेंडा है और उसके लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं जिसमें उन्होंने समान नागरिक संहिता और मुख्यमंत्री द्वारा दिए गए बयान चार धाम यात्रा में सत्यापन का जिक्र किया यह सारे नए एजेंडे हमारे सामने आ रहे हैं और साथ ही विकास भी किया जा रहा है।

इस अवसर पर प्रदेश प्रवक्ता विनोद सुयाल प्रदेश सह मीडिया प्रभारी कमलेश उनियाल संजीव वर्मा, सत्यवीर सिंह चौहान सहित भाजपा के कई वरिष्ठ नेता उपस्थित थे।

The Digital Uttarakhand

Related articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.